Thursday, October 13, 2016

विश्व मानक दिवस 2016 World Standards Day 2016


*विश्व मानक दिवस 2016*
*World Standards Day 2016*


*विश्व मानक दिवस* (World Standards Day) World Standards Cooperation (WSC) विश्व मानकों के सहयोग की एक पहल है। यह प्रति वर्ष 14 अक्टूबर को पूरे विश्व में मनाया जाता है।

*आज 14 अक्टूबर 2016 को विश्व मानक दिवस हैं।*

14 अक्टूबर को प्रत्येक वर्ष, आईईसी, आईएसओ और आईटीयू के सदस्य विश्व मानक दिवस मनाते हैं, जो दुनिया भर के हजारों विशेषज्ञों के सहयोगी प्रयासों को श्रद्धांजलि अर्पित करने का एक साधन है, जो स्वैच्छिक तकनीकी समझौते विकसित करते हैं और जो अंतरराष्ट्रीय मानकों के रूप में प्रकाशित होते हैं।

14 अक्टूबर 2016 - विश्व मानक दिवस 2016 का इस बार का विषय हैं - "मानक विश्वास निर्मित करते हैं।(Standards build trust.)"

इस अवसर पर विश्व की प्रमुख तीनों मानक संस्थाओं के प्रमुखों - IEC अध्यक्ष Dr. Junji Nomura, ISO अध्यक्ष Zhang Xiaogang और ITU सेक्रेटरी-जनरल Houlin Zhao - ने अपने संयुक्त संप्रेषण में निम्न संदेश दिया है। -

"मानक हमें सहयोग के लिए (for cooperation) संचार के विश्वसनीय साधनों (reliable modes of communication), अभ्यास संहिताओं (codes of practice) और विश्वसनीय ढाँचों (trusted frameworks) के साथ जोड़ते हैं। किसी संप्रेषण या समझौते के पारस्परिक पक्षों पर आम व्याख्याओं का सूत्रपात करने के लिए, मानक (standards) पारस्परिक रूप से लाभप्रद व्यापार और कुशल अंतरराष्ट्रीय वाणिज्य संसाधन के लिए आवश्यक हैं।

सामाजिक विचार-विमर्श (Social interaction) मानदंडों, अवधारणाओं या अर्थों (norms, concepts or meanings) के मौलिक समुच्यय (fundamental sets) के लिए आम सम्मान (common respect) पर निर्भर करता है - अंतरराष्ट्रीय मानक (International standards) इन मानदंडों को संहिताबद्ध सुनिश्चित करता है कि वे सभी के लिए सुलभ (accessible to all) हैं।

एक अंतरराष्ट्रीय मानक के अनुरूप हर उत्पाद या सेवा (product or service conforming to an international standard) गुणवत्ता, सुरक्षा या अनुकूलता (quality, safety or compatibility) के एक विश्वसनीय प्रतीक (trusted symbol) से ओत-प्रोत होता है। मानक (Standards) आपस में संबद्ध हमारी दुनिया की विविधता (diversity of our interconnected world) के लिए बोलते हैं, अंतराफलको में एकरूपता (uniformity at the interfaces) का परिचय कराते हैं, जहाँ हमे यह स्पष्ट करना जरुरी होता है कि हम एक ही शर्तों पर बात कर रहे हैं।"

*आओ हम मानकों पर जागरूकता पैदा करने का प्रयास करें, ताकि एक खुशहाल विश्व बनाने का सपना पूरा कर सकें।*

*विश्व मानक दिवस 2016 पर शुभकामनाएँ।*


- केशव राम सिंघल

*साभार*

आईएसओ की बेवसाईट
World Standards Cooperation की बेवसाईट

*कृपया मेरे निम्न ब्लॉग्स पढ़ते रहें और अपनी टिप्पणी करते रहें*

"गुणवत्ता प्रबंध प्रणाली पर जानकारी"

"Quality Concepts and ISO 9001:2015 QMS Awareness"

"Quality Concepts and ISO 9001:2008 QMS Awareness"


"Risk Management Awareness"

"EMS Awareness"

"वरिष्ठ नागरिक जागरूकता Senior Citizen Awareness"



Thursday, February 4, 2016

Quality Concepts and ISO 9001:2008 QMS Awareness: हुर्रा ! मैं बहुत खुश हूँ .... Hurrah ! I am too h...

Quality Concepts and ISO 9001:2008 QMS Awareness: हुर्रा ! मैं बहुत खुश हूँ .... Hurrah ! I am too h...: हुर्रा ! मैं बहुत खुश हूँ .... 145 से अधिक देशों/अर्थव्यवस्थाओं से तीन लाख (300,000) से अधिक आगंतुकों ने मेरे ब्लॉग http://iso9001-20...

Wednesday, February 3, 2016

डेल्फी विधि (Delphi Method) - जोखिम प्रबंधन के लिए एक उपकरण (A tool for Risk Management)


डेल्फी विधि (Delphi Method) - जोखिम प्रबंधन के लिए एक उपकरण (A tool for Risk Management)

आईएसओ 9001:2015 गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली में एक महत्वपूर्ण परिवर्तन जोखिम पर विचार करने के लिए एक व्यवस्थित दृष्टिकोण को गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली का एक अभिन्न अंग के रूप में स्थापित करने के लिए है, बजाय 'रोकथाम' (Prevention) को एक अलग अपेक्षा के रूप में।

जब मात्रात्मक डेटा (Quantitative data) उपलब्ध नहीं होता हैं या जब कोई संस्था भविष्य में एक प्रमुख संरचनात्मक बदलाव करने की कोशिश करती हैं, तो अक्सर निर्णय में संलग्न लोग पूर्वानुमान (forecasts) के लिए उन लोगों पर भरोसा करते हैं, जो उस क्षेत्र से होते हैं, उन स्थितियों से अच्छी तरह से वाकिफ और जानकार होते हैं। 'डेल्फी विधि' एक तरह से यह करने के लिए एक विधि है। डेल्फी विधि रेंड कार्पोरेशन (Rand Corporation) द्वारा शीत युद्ध के शुरू में विकसित की गई थी, यह युद्ध पर प्रौद्योगिकी के प्रभाव की भविष्यवाणी करने के लिए बनायी गई थी, जिसमें तकनीकी भविष्यवाणी का अपना आधार है।

पौराणिक कथाओं ने भविष्य की भविष्यवाणी की थी। मात्रात्मक मॉडल (Quantitative models) अक्सर सीमित उपयोग के होते हैं, जब भविष्य में बहुत आगे तक की भविष्यवाणी करने की कोशिश की जाती है। बड़े पैमाने पर प्रौद्योगिकी बदलाव से प्रेरित 'पर्यावरण पैटर्न' समय की लंबी अवधि में नाटकीय रूप से बदल सकते हैं। जब भविष्य में हम आगे तक सोचते हैं, हम जानना चाहते हैं कि कैसे, संभावित अक्सर या तीव्र ये भविष्य के पूर्वानुमान हैं या होंगे। इस सबके लिए ही डेल्फी विधि उपयोगी है।

डेल्फी विधि एक संरचित, परस्पर संवादात्मक, गतिशील संप्रेषण विशेषज्ञ तकनीक है जो भविष्य पर अपनी राय साझा करने के लिए सभी को एक साथ शामिल करती है। पैनल के सदस्यों को एक प्रश्नावली दी जाती है, जिसमें भविष्य के बारे में "क्या","अगर," "क्या यदि"," या "जब" प्रश्न किए जाते हैं। उन्हें परिदृश्यों के साथ प्रस्तुत किया जा सकता है और ऐसी स्थिति उत्पन्न या कब होने की संभावना की भविष्यवाणी करने के लिए कहा जा सकता है। पैनल के सदस्यों के बीच अनुभव, जानकारी की उपलब्धता, और व्याख्या के तरीकों में अंतर एक विस्तृत विचारों की विविधता सुनिश्चित करेगा। आम सहमति लाने के लिए पैनल सदस्यों की राय को संक्षेप रूप में अन्य पैनल के सदस्यों के साथ (गुमनाम रखते हुए) साझा किया हैं, और पैनल सदस्यों को इन दृष्टिकोण के आधार पर अपनी भविष्यवाणियों को समायोजित करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। जब कुछ पैनल के सदस्यों के विचारों में समूह विचारो से अलग विचार होते हैं, तो उनसे अपने विचारों के लिए लिखित औचित्य प्रदान करने के लिए कहा जाता है, ताकि उनकी राय की ताकत निर्धारित की जां सके। कुछ पुनरावृत्तियों के बाद, समूह एक सर्वसम्मति पूर्वानुमान की ओर बढ़ता है।

इस तरह से डेल्फ़ी विधि का उपयोग जोखिम को संबोधित करने के लिए किया जा सकता हैं।

- केशव राम सिंघल